गंदे या कटे हुये नोटों के कहाँ बदलें। कोई नोट या सिक्कों को लेने से मना करे तो इसकी शिकायत कहाँ करें।

0
430
गंदे और कटे-फटे नोट कहा बदले जाते हैं

 

अगर आपके पास कोई भी गंदा या कटा-फटा नोट है तो आप Reserve Bank of India (Note Refund Rules) 2009 के अंतर्गत आप भारत के किसी भी बैंक के किसी भी ब्रांच में जाकर चेज़ करा सकते है, बैंक आपको मना नहीं कर सकता है। पहली बार ये नियम रिजर्ब बैंक ऑफ इंडिया ने 2 जुलाई 2018 को लागू किया था और 14 जनवरी 2019 को इसे अपडेट भी किया गया था।

Reserve Bank of India (Note Refund Rules) 2009 में कहा गया है कि सभी बैंक अपने ग्राहकों को नियमानुसार सभी सेवा प्रदान करेंगे, जिससे ग्राहकों को रिजर्ब बैंक ऑफ इंडिया के कार्यालय में अप्रोच न करना पड़े।

 

(i) फ्रेस और गुड़ क़्वालिटी के नोट और सिक्के ग्राहकों के डिमांड पर प्रोवाइड करना।

 

(ii) गंदे और कटे-फटे नोट बदलना।

 

(iii) भारतीय रिजर्ब बैंक के द्वारा जारी किये गये सभी प्रकार के नोट और सिक्कों को स्वीकार करना वो चाहे ट्रांजेक्शन के लिये हो या फिर बदलने के लिये।

 

दूसरे नम्बर पर जो नोटों को बदलने के नियम हैं उसके अनुसार कोई भी बैंक को नोट चाहे हो गन्दा हो या फिर कटा-फटा हो उन्हें बदलना जरूरी है। बैंक इसके लिये मना नहीं कर सकता। बैंक को एक नोटिस बोर्ड भी लगाना अनिवार्य है जिसमें की लिखा हुआ हो कि हम गंदे और कटे-फटे नोट बदलते हैं।

 

नोट बदलने के नियम

 

1. एक दिन आप अधिकतम नोट के 20 टुकड़े ही बदल सकते हैं

2. एक दिन में आप अधिकतम 5000 रुपये के नोट ही बदल सकते हैं।

3. अगर आप 20 टुकड़ों से ज्यादा या 5000 रुपये से ज्यादा नोट बदलना चाहतें हैं तो बैंक इसके लिये आपसे चार्ज लेगा।

 

अगर कोई बैंक या दुकानदार आपसे गंदे या कटे-फटे नोट या सिक्के लेने से मना कर दे तो उसकी शिकायत कहाँ करें

 

अगर कोई बैंक या दुकानदार आपसे गंदे या कटे-फटे नोट लेने से मना करे तो ये एक अपराध है। उस बैंक और दुकानदार के खिलाफ कार्यवाही की जा सकती है। इसकी शिकायत आप भारतीय रिजर्ब बैंक के किसी भी कार्यालय में कर सकते हैं।

अगर कोई बैंक या दुकानदार आपसे सिक्के लेने से मना कर देता है तो सबसे पहले आप उसके खिलाफ सबूत इकट्ठा करें जिससे को बाद में मुकर न जाये। आप उससे लिखवा सकते है या फिर वीडियो या ऑडियो बना सकते हैं।

इसकी शिकायत करने के लिये आप अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन जाकर उसके खिलाफ शिकायत करनी है। उस व्यक्ति की जानकारी देनी है जो आपके सिक्के लेने से मना किया है। इसके बाद IPC की धारा 188 के तहत या फिर IPC 124A के तहत पुलिस आपकी FIR दर्ज करेगी।

इसमें उस दुकानदार को IPC की धारा 188 के अंतर्गत 6 महीने की सज़ा हो सकती है, या फिर IPC 124A के अंतर्गत 3 साल की सज़ा और जुर्माना भी हो सकता है।

तो अगर कोई भी बैंक या दुकानदार आपके नोट और सिक्के लेने से मना करता है तो आप उसके खिलाफ शिकायत जरूर करिये। बहुत सारे लोग ऐसे होते है जोकि इसे एक छोटा सा मामला समझ के छोड़ देते है, तो आप ऐसा मत कीजिये उसकी शिकायत जरूर कीजिये।

 

पोस्ट पसंद आया है तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के पास शेयर करिये अगर आपकी कुछ समझ में न आया हो या कोई सुझाव हो तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें आपके कमेंट का उत्तर जरूर आपको दिया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here